गोरखपुर की बेटी,सामिया नसीम ने अमेरिका में जज बन कर देश का मान बढ़ाया

जहां माता दुर्गा के इस देश में अभी बेटियां अपने अस्तित्व के लिए लड़ रही हैं,वहीं गोरखपुर की बेटी अमेरिका में जज बनकर दुनियां में भारत का मान बढ़ाया है। हम बात कर रहे हैं सामिया नसीम की, जिन्हें अमेरिका के अटॉर्नी जनरल विलियम बर ने शिकागो के लिए जज के पद पर नियुक्त किया है। उन्होंने शिकागो में न्याय विभाग के मुख्य भवन में 20 दिसंबर 2019 को विशेष समारोह में शपथ लिया।

गोरखपुर की बेटी हैं, सामिया

उनके के पिता ,खालिद गोरखपुर के गीता प्रेस रोड के मूल निवासी हैं। उनके पिता अमेरिका में पेशे से वकील हैं । सामिया नसीम की मां होमायरा नसीम पेशे से प्लास्टिक इंजीनियर हैं। खालिद, 1978 में स्नातक की पढ़ाई करने अमेरिका चले गए थे और उन्होंने वहीँ का नागरिकता भी ले लिया। वे 1991 से ही मैसाचुसेट्स के बॉयलस्टोन में रहते हैं। सामिया नसीम के परिजनों के मुताबिक सामिया पढ़ने में शुरू से ही मेधावी थीं।

अमेरिका के कई महत्वपूर्ण पदों पर सेवाएं दे चुकी हैं

जज बनने से पूर्व वह अमेरिका में कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। उन्होंने 2001 में वाशिंगटन के सिमंस कॉलेज से कला में स्नातक किया।और जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी लॉ स्कूल से 2004 में ज्युदासीएल डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने 2002 में यूके से ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून और शरणार्थी कानून का भी अध्ययन किया।


सामिया के पिता व माता बॉयलस्टोन शहर के नियोजन बोर्ड की एक निर्वाचित सदस्य भी हैं । सामिया के जज बनने पर गीताप्रेस मोहल्ले में हर्ष का माहौल है।

सॉलिड ख़बर ऐसे प्रतिभावानों पर गर्व करता है। साइमा नसीम के जज बनने से पूर्वांचल ही नहीं देश का मान बढ़ा है। पूर्वांचल की बेटियां प्रति दिन एक नया इतिहास रच रही हैं। शिक्षा ,स्वास्थ्य, रक्षा ,न्याय , प्रशासनिक आदि क्षेत्रों में यहां की बेटियों ने सफलता की नई नई इबारत लिखी है। कामयाबी के इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए गोरखपुर की बेटी सामिया नसीम ने अमेरिका में जज बनकर गोरखपुर ही नहीं बल्कि पूरे भारत का गौरव बढ़ाया ही है बल्कि महिलाओं को और मजबूती देने का काम किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here