जिला मुख्यालय कुशीनगर स्थित एक निजी विद्यालय में पूर्व में कार्यरत एक महिला ने स्कूल प्रबंधक पर सैलरी ना देने पर यौन शोषण के लिए विवश करने का गंभीर आरोप लगाया है।
मामले में एसपी सचिन्द्र पटेल ने सीओ सदर को जांच का आदेश देते हुए 3 दिन के अंदर रिपोर्ट मांगा है।
वही विद्यालय के प्रबंधक द्वारा भी महिला के ऊपर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं जिसमें प्रबंधक का कहना है कि महिला द्वारा कई दिनों से उसे प्रताड़ित किया जा रहा था और उसके परिवार के सदस्यों को अनाप-शनाप मैसेज और फोन कॉल करके बातें कही जा रही थी।

वह महिला ने कुबेरस्थान थाने में सोमवार देर शाम तक देकर कहा है कि स्कूल उसकी नियुक्ति जन संपर्क अधिकारी के पद पर हुई थी इसके बदले स्कूल उसे ₹15000 वेतन देता था महिला का आरोप है कि वेतन मद में उसका ₹39000 बकाया है बीते अप्रैल से वह बकाए वेतन की मांग कर रही थी जब भी वह स्कूल प्रबंधक निदेशक से इस निमित्त मिली उसे यौन शोषण का प्रयास किया विरोध करने पर प्रिंसिपल ने अप्रैल में आखरी मैसेज भेजकर स्कूल से निकालने की जानकारी दिया। महिला का आरोप है कि 1 दिन पूर्व फोन पर जब प्रबंधक निदेशक से बात कर वेतन की मांग भी की तो उसे अपशब्द कहे गए।
सॉलिड खबर ने प्रबंधक से बात की जिसमें उन्होंने बताया कि पूरे विद्यालय में सीसीटीवी कैमरा लगे हुए हैं ऐसी कोई बात नहीं हुई महिला सैलरी में अगर गड़बड़ी हुई थी तो लिखित रूप से उसकी सूचना मुझे या प्रधानाचार्य को देनी चाहिए थी जो कि उन्होंने कभी नहीं किया। प्रबंधक का कहना है महिला द्वारा लगातार फोन करके पैसे की मांग की जा रही थी और धमकी दी जा रही थी। साथ हीं परिवार के सदस्यों व उनके बेटे के व्हाट्सएप पर मैसेज करके गलत गलत बातें कही जा रही थी,इसी आवेश में उनके मुंह से अपशब्द निकल गए जिसके लिए वह शर्मिंदा है और माफी मांगते हैं।

हालांकि मामले को लेकर युवाओं में काफी आक्रोश है और वह प्रदर्शन करके अपना रोष व्यक्त कर रहे हैं। सुबह के 8:00 बजे स्कूल पर पहुंचकर युवा नेताओं द्वारा लगातार प्रोटेस्ट किया जा रहा है। उनकी मांगे हैं की प्रबंधक को तत्काल माफी मांगना चाहिए और जो भी बची हुई सैलरी है महिला को वापस देना चाहिए, प्रशासन द्वारा सख्त कार्यवाही करनी चाहिए।

हालांकि प्रशासन और आला अधिकारी लगातार युवाओं को समझाने की कोशिश में जुटे हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here